अभिनंदन ने कहा पाकिस्तान ने mentally torture किया, बार-बार विमान के बारे में पूछा,

IAF पायलट विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान ने कहा कि पाकिस्तान में 'मानसिक उत्पीड़न' का सामना करना पड़ा ।

दिल्ली ;- साझा जानकारी मिले सूत्रों के अनुसार पाकिस्तान से लौटने के एक दिन बाद, विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान ने शनिवार को भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के शीर्ष अधिकारियों को सूचित किया कि उन्हें बहुत अधिक मानसिक प्रताड़ना का सामना करना पड़ा, हालांकि उन्हें पाकिस्तान के अधिकारियों द्वारा physically tortured नही किया गया !


IAF के पायलट विंग कमांडर अभिनंदन को पाकिस्तान अधिकारियों ने वाघा बॉर्डर पर रिहा किया ।

विंग कमांडर अभिनंदन वर्द्धमान ने शुक्रवार रात 9.20 बजे, पंजाब की अमृतसर, वाघा सीमा के माध्यम से भारतीय सीमा में कदम रखा ,विंग कमांडर अभिनंदन के आने के बाद उन्हें  आर्मी RR हॉस्पिटल में उनकी जांच के लिए लाया गए जिससे उन्हें कोई चोट ना आई हो इसकी पुख्ता जानकारी हो सके , अस्पताल में ही रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और एयर चीफ मार्शल बीरेंद्र सिंह धनुआ ने वर्धमान से मुलाकात की जहाँ उनकी मीटिंग के बाद यह जानकारी सामने आयी है , अब इस पर आगे कारवाई होनी है कि पाकिस्तान में हमारे वीर अभिनंदन पर किस तरह का दबाब बनाने की कोशिश की जा रही थीं ।
पाकिस्तान कैसे पहुंचे अभिनंदन

27 फरवरी की सुबह जम्मू कश्मीर के पाकिस्तान से सटी नियंत्रण रेखा के पास नौशेरा सेक्टर में भारत पाक सेनाओं का टकराव चालू हुआ. इस दौरान पाकिस्तानी सेना के 10 एयर क्राफ्ट नियंत्रण रेखा के समीप नजर आए, उनकी स्थिति भारतीय सैन्य ठिकानों की और बढ़ती हुई दिख रही थी. इनकी जवाबी कार्यवाही में भारत की ओर से 2 मिग-21  और सुखोई-30 और फायतर जेट लॉंच किए गए. इस कार्यवाही में अभिनंदन जो मिग-21 विमान उड़ा रहे रहे थे, उससे उन्होने पाकिस्तान के एफ़-16 का पीछा किया और इस पर आर-73 से हमला किया, इससे पाकिस्तानी विमान ध्वस्त हो गया. इस दौरान अभिनंदन का विमान भी क्रेश हो गया. इस दौरान अभिनंदन ने पैराशूट से छलांग लगा दी, परंतु इसमें वे पाक अधिकृत कश्मीर में पंहुच गए.

शीर्ष सूत्रों ने अनुसार गुरुवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाकिस्तान संसद में वर्द्धमान की रिहाई की घोषणा की, और उन्होंने इसे उनके तरफ से "शांति का सन्देश" कहा ।

भारत ने कूटनीतिक और सैन्य दबाव का भी इस्तेमाल किया ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि पाकिस्तान वर्थमान को बिना शर्त छोड़ दे।

सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बातचीत के लिए पाकिस्तान के प्रस्ताव पर कोई समझौता नहीं किया, सूत्रों के अनुसार राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने अमेरिका और अन्य देशों के साथ बातचीत की। उन्होंने कहा कि विदेश मंत्रालय ने अंतराष्ट्रीय दवाब के माध्यम से पाकिस्तान पर दबाव बनाया गया ।

Post a Comment

आपके प्यार और स्नेह के लिए धन्यवाद mithilatak के साथ बने रहे |

favourite category

...
test section describtion

Whatsapp Button works on Mobile Device only