आज शाम गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन हो गया, 63 की उम्र में छोड़ गए श्री पर्रिकर ।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का लंबी बीमारी के बाद रविवार की शाम निधन हो गया। वह 63 वर्ष के थे। मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर बताया था कि पिछले दो दिनों से उनकी तबियत बेहद खराब हो गयी थी बताया जा रहा है पूर्व रक्षा मंत्री का स्वास्थ्य पिछले एक साल से खराब था ।

Manohar parikar, manohar parikar died today


वह एक गंभीर अग्नाशय की बीमारी से पीड़ित थे और उनका इलाज उनके निजी अस्पताल dona paula में चल रहा था।
राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने पर्रिकर के निधन पर दुख व्यक्त किया।
उन्होंने एक ट्वीट में कहा "श्री मनोहर पर्रिकर, गोवा के मुख्यमंत्री  और भारत के पूर्व रक्षा मंत्री के सम्पर्ण को यह देश और गोवा हमेशा याद रखेगा । वो ईमानदारी और समर्पण और सार्वजनिक जीवन का एक प्रतीक थे । उनके अचानक निधन केे बारे में सुनकर बेहद दुख हुआ।

पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से कहा कि पर्रिकर शनिवार देर रात से ही लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर थे।

अन्य नेताओं ने भी उनकी मृत्यु पर शोक व्यक्त किया।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा: "गोवा के सीएम, श्री मनोहर पर्रिकर जी के निधन की खबर से मुझे गहरा दुख हुआ है, इस दुख की घड़ी में उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदना। "  श्री मनोहर पर्रिकर गोवा के सच्चे बेटे थे।

रक्षा मंत्री "निर्मला सीतारमण ने ट्वीट कर कहा कि "श्री मनोहर पर्रिकर एक ईमानदार, संवेदनशील राजनीतिक कार्यकर्ता थे, मैंने श्री पर्रिकर से बहुत कुछ मुझे सीखने को मिला ।

"मेरे अच्छे दोस्त मनोहर पर्रिकर जी के असामयिक निधन से बहुत दुखी हूं। त्रुटिहीन अखंडता का एक प्रतीक, किसी राज्य का सीएम बनने वाला पहला आईआईटीयन, भारत का महान बेटा बहुत जल्द ही चला गया ... RIP my dear मित्र ..., "केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु ने एक ट्वीट में कहा।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, "श्री मनोहर पर्रिकर के शोक संतप्त परिवार के प्रति मेरी संवेदना। मैं उनसे केवल एक बार मिली हूँ । जब 2 साल पहले मेरी माँ को मिलने वो हॉस्पिटल आये थे । उनकी आत्मा को शांति मिले।"

उत्तरी गोवा के मापुसा में एक मध्यम वर्गीय व्यवसायी परिवार में जन्मे मनोहर गोपालकृष्ण प्रभु पर्रिकर ने Rss से भाजपा में प्रवेश किया था ।
वह अपने स्कूल के दिनों में आरएसएस में शामिल हो गए और हमेशा यह माना कि संगठन से उन्हें जो विचारधारा और प्रशिक्षण मिला, उससे उन्हें सार्वजनिक जीवन में बहुत मदद मिली, सबसे महत्वपूर्ण रूप से निर्णय लेने में।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जिन्होंने नवंबर 2014 में उन्हें रक्षा मंत्री के रूप में चुना था, वे अक्सर अपने समर्पण और कड़ी मेहनत के लिए प्रशंसा प्राप्त करते थे। खासकर पिछले साल सर्जिकल स्ट्राइक के संदर्भ में उनके महत्वपूर्ण भूमिका को देश याद रखेगा।
आईआईटी बॉम्बे से मनोहर पर्रिकर  इंजीनियर रहे थे, पर्रिकर पहली बार 1994 में गोवा विधानसभा के लिए चुने गए थे। उन्होंने जून से नवंबर 1999 तक विपक्ष के नेता के रूप में कार्य कियाथा।
राजनीतिक परिवेश में उन्होंने मुख्यमंत्री के रूप में पहला कार्यकाल 24 अक्टूबर, 2000 से 27 फरवरी, 2002 तक का था उनका अगला कार्यकाल 5 जून, 2002 से 29 जनवरी 2005 तक रहा । 2009 में, पर्रिकर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए दौड़ में शीर्ष में से एक थे ।
2012 में, उन्होंने सफलतापूर्वक भाजपा का नेतृत्व किया और तीसरी बार मुख्यमंत्री बने, जो नवंबर 2014 तक चला जब उन्हें रक्षा मंत्री बनाया गया था।
एक ऐसा नेता जिसे भाजपा और उससे आगे के सभी वर्गों से स्वीकार्यता मिली, और वह अपने राज्य का मुख्यमंत्री बने । पर्रिकर, जिनकी पत्नी की मृत्यु 2001 में हुई थी, उनके दो बेटे हैं - उत्पल और अभिजीत।
सोमवार को सुबह 11 बजे उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए केंद्रीय कैबिनेट की बैठक बुलाई गई है।

Post a Comment

आपके प्यार और स्नेह के लिए धन्यवाद mithilatak के साथ बने रहे |

favourite category

...
test section describtion

Whatsapp Button works on Mobile Device only