सुनों कहानी वीरों की । कविता


Suno kahaani viro ki , indian army poem, poem , fouji

सुनो कहानी वीरों की,
भारत मां के शेरों की!
निडर खड़े हैं सीमा पर,
देश प्रेम का भाव लेकर!!

राजस्थान की तपिश हो,
या कश्मीर की कपकपी,
सियाचिन की बर्फ की चादर,
या आंधी हो कच्छ की ।
जोश इनका न डिगा तनिक भी ,
चाहे जैसी लाचारी हो!!

निद्रा देवी तरस रही,
गोद मे इन्हें सुलाने को ,
वक्त कहां अब इनके पास
दो पल भी सुस्ताने को !!

है कसम इन वीरों ने ली,
मां की लाज बचाने की ,
शत्रु जितना बलशाली हो,
उसे रण में धूल चटाने की !!

पाक के नापाक इरादे,
इन्होंने ही नाकाम किया,
आया जब सीमा पार आतंकी,
उसका भी काम तमाम किया!!

हंसते-हंसते खाई गोली,
मां के वीर जवानों ने,
ना किया संकोच तनिक भी,
अपने प्राण गवाने में !!

है फक्र सैनिक पर अपने ,
हर एक भारतवासी को,
हिन्दुस्तान हमारा जिनसे,
नमन उनकी जवानी को !!

भाग्य भूमि हैं भारतमाता,
जननी इन रणजीतों की ,
हैं पूज्य सम्पूर्ण जगत में ,
ये भारत वीर सपूतों की !!

कविता रचियता =:) दीक्षा झा

अगर आप भी कविता लिखते है तो हमारे साथ शेयर करे ।



शेयर करने के लिए आप हमें 
facebook पेज :) मिथिलातक
इंस्टीट्यूट :) मिथिलातक
ट्विटर :) मिथिलातक

इन सोशल साईट्स पर मैसेज कर के अपना कविता भेज सकते हैं या आप हमें ईमेल भी कर सकते हैं ।

Email :)  news@mithilatak.com

आप इस सभी के माध्यम से हमे अपने स्थानीय न्यूज़ भी भेज सकते है , अगर आप एक न्यूज रिपोर्टर के रूप में साथ काम करना चाहते है तो भी आप हमें मेल कर बताये ।

धन्यवाद । :)

Post a comment

आपके प्यार और स्नेह के लिए धन्यवाद mithilatak के साथ बने रहे |

Whatsapp Button works on Mobile Device only